मेरे प्रिय खेल पर निबंध Class 1 To 8

हेलो दोस्तो मेरा नाम विवेक सिंह है आज हम बात करेंगे निबंधों के बारे में,   मेरे प्रिय खेल के निबंध को हम कई प्रकार से लिख सकते है खेल कई प्रकार के होते है क्रिकेट, फोटबॉल , हॉकी, कबाड़ी , बोल्ली बोल , बास्केट बॉल , इत्यादि ।

आज हम आप को इन सब का निबंध लिखना बतायगे ।

मेरे प्रिय खेल के निबंध क्रिकेट

खेलना कूदना हम बच्चों को बहुत  अच्छा लगता है खेल कूद का नाम सुनते ही हम बच्चों हर्ष और उल्लास से भर जाते है । खेल कूद के कई फायदे होते है यह दिमाग को तेज बनाता है और शरीर को दमदार बनाता है। खेल कूद सभी को अच्छा लगता है बच्चे अपना खेल खुद पसंद करते है बच्चों को अपना खेल चुनने का हक होता है जिसके उपरांत वो उस खेल को पसंद करते है । जैसे मुझे क्रिकेट पसन्द है । वैसे ही सारे बच्चो को उनकी पसंद का खेल अच्छा लगता होगा ।

यह खेल घर के बाहर खेले जाने वाला खेल है यह खेल कुछ देसो में खेले जाने वाला खेल है लेकिन जहा भी खेला जाता है वह के लोग इस खेल को बहुत पसंद करते है इस वजह से इनकी लोकप्रियता बढ़ती ही जा रही है  और आगे और ज्यादा बढ़ेगी । इस वजह से इसका प्रचार बहुत बढ़ गया है कुछ देशों में ।

यह खेल बड़े मैदान में खेले जाने वाला खेल है इसमें कुछ प्लेयर होते है और कुछ खास नियम होते है जो सभी लोग मानते है । हर खेल के कुछ अलग नियम होते है सब की कुछ न कुछ हदे होती है जिसका उलंघन करने पर आप को टीम से निकाल भी जा सकता है । हर खेल आप को आप के जीवन मे बेहतर बनाती है जिसकी वजह से आप सबसे बेहतर बनते है ।

खेल कभी भी जितने के लिए नही खेलना चाहिए बल्कि उसे कुछ सिख लेनी चाहिए । खेल में जीत हर मायने नही रखती है बल्कि आप खेल रहे है और उस खेल का आनंद ले रहे है ये बड़ी बात होती है हर जीत तो लगी रहती है लेकिन खेल कर मिलने वाली खुसी बहुत काम लोगो को प्राप्त होती है इस लिए इस लिए हर समय खेलने पर ध्यान दे ना कि हर जीत पर ।

क्रिकेट के नियम 

1. क्रिकेट खेला जाता है। (जूनियर प्रतियोगिताओं में कुछ समय के लिए आपको 8 खिलाड़ी टीमें मिलेंगी)।
खेलों में कम से कम एक पारी शामिल होती है जहां प्रत्येक टीम बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण / गेंदबाजी में बदलाव करेगी।

2. क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम के पास एक गेंदबाज होगा जो गेंद को अपने बल्ले से मारने की कोशिश करता है।

3. क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम बल्लेबाजों को आउट करने की कोशिश करती है ...

4. गेंदबाजी करते समय गेंद के साथ विकेट मारना

5. पूर्ण पर एक बल्लेबाज का शॉट पकड़ना

6. विकेट के सामने बल्लेबाज का पैर मारना (LBW)

7. बल्लेबाजों को मारने से पहले बल्लेबाज पिच के दूसरे छोर तक दौड़ सकता है
बल्लेबाज़ों के…

8.गेंद को हिट करना और विकेटों के बीच दौड़ना और दूसरे छोर पर फील्डरों के सामने गेंद को हिट कर सकते हैं। हर बार जब आप पिच की एक पूरी लंबाई चलाते हैं तो यह 1 रन के बराबर होती है।

9. गेंद को मैदान के साथ बाउंड्री पर मारना 4 रन है।

10. बाउंड्री के ऊपर से गेंद को पूरा करते हुए 6 रनों के बराबर।

11. क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम को 10 बल्लेबाजों को आउट करने से पहले उन्हें ओवर में बल्लेबाजी शुरू करनी चाहिए।

12. खेल का उद्देश्य फील्डिंग टीम के 10 विकेट लेने से पहले अधिक से अधिक रन बनाना है। सबसे ज्यादा रन बनाने वाली टीम जीत जाती है।


मेरे प्रिय खेल के निबंध फोटबॉल


खेलना कूदना हम बच्चों को बहुत  अच्छा लगता है खेल कूद का नाम सुनते ही हम बच्चों हर्ष और उल्लास से भर जाते है । खेल कूद के कई फायदे होते है यह दिमाग को तेज बनाता है और शरीर को दमदार बनाता है। खेल कूद सभी को अच्छा लगता है बच्चे अपना खेल खुद पसंद करते है बच्चों को अपना खेल चुनने का हक होता है जिसके उपरांत वो उस खेल को पसंद करते है । जैसे मुझे फोटबॉल पसन्द है । वैसे ही सारे बच्चो को उनकी पसंद का खेल अच्छा लगता होगा ।

यह खेल घर के बाहर खेले जाने वाला खेल है यह खेल कुछ देसो में खेले जाने वाला खेल है लेकिन जहा भी खेला जाता है वह के लोग इस खेल को बहुत पसंद करते है इस वजह से इनकी लोकप्रियता बढ़ती ही जा रही है  और आगे और ज्यादा बढ़ेगी । इस वजह से इसका प्रचार बहुत बढ़ गया है कुछ देशों में ।

यह खेल बड़े मैदान में खेले जाने वाला खेल है इसमें कुछ प्लेयर होते है और कुछ खास नियम होते है जो सभी लोग मानते है । हर खेल के कुछ अलग नियम होते है सब की कुछ न कुछ हदे होती है जिसका उलंघन करने पर आप को टीम से निकाल भी जा सकता है । हर खेल आप को आप के जीवन मे बेहतर बनाती है जिसकी वजह से आप सबसे बेहतर बनते है ।

खेल कभी भी जितने के लिए नही खेलना चाहिए बल्कि उसे कुछ सिख लेनी चाहिए । खेल में जीत हर मायने नही रखती है बल्कि आप खेल रहे है और उस खेल का आनंद ले रहे है ये बड़ी बात होती है हर जीत तो लगी रहती है लेकिन खेल कर मिलने वाली खुसी बहुत काम लोगो को प्राप्त होती है इस लिए इस लिए हर समय खेलने पर ध्यान दे ना कि हर जीत पर ।

 फुटबॉल के नियम (सॉकर)

1. मैच में बीच में 15 मिनट के आराम की अवधि के साथ दो 45 मिनट के आधे भाग होते हैं।
प्रत्येक टीम में न्यूनतम 11 खिलाड़ी हो सकते हैं (1 गोलकीपर सहित, जो केवल 18 यार्ड बॉक्स के भीतर गेंद को संभालने के लिए अनुमति दी जाती है) और एक मैच का गठन करने के लिए न्यूनतम 7 खिलाड़ियों की आवश्यकता होती है।

2. मैदान कृत्रिम या प्राकृतिक घास से बना होना चाहिए। पिचों का आकार अलग-अलग होने की अनुमति है, लेकिन 100-130 गज लंबे और 50-100 गज चौड़े होने चाहिए। पिच को बाहर के चारों ओर एक आयताकार आकार के साथ चिह्नित किया जाना चाहिए, जो कि दो छः यार्ड बक्से, दो 18 यार्ड बक्से और एक केंद्र सर्कल के बाहर दिखा रहा है। दोनों गोलों के बीच से 12 गज की दूरी पर रखा गया पेनल्टी के लिए स्पॉट भी दिखाई देना चाहिए।

3. गेंद को 58-61 सेमी की परिधि होना चाहिए और एक गोल आकार का होना चाहिए।
प्रत्येक टीम 7 स्थानापन्न खिलाड़ियों को नाम दे सकती है। प्रत्येक टीम के साथ मैच के किसी भी समय सबस्टीट्यूशन किए जा सकते हैं, जो प्रति पक्ष अधिकतम 3 प्रतिस्थापन बनाने में सक्षम है। तीनों स्थानापन्न होने की स्थिति में और एक खिलाड़ी को चोट के लिए मैदान छोड़ने के लिए टीम को उस खिलाड़ी के प्रतिस्थापन के बिना खेलने के लिए मजबूर किया जाएगा।

4. प्रत्येक खेल में एक रेफरी और दो सहायक रेफरी (लाइनमैन) शामिल होने चाहिए। रेफरी का काम टाइम कीपर के रूप में कार्य करना है और कोई भी निर्णय लेना है, जिसमें फाउल्स, फ्री किक, थ्रो इन्स, पेनल्टी जैसे प्रावधान किए जा सकते हैं और प्रत्येक आधे के अंत में समय पर जोड़ा जाना चाहिए। रेफरी निर्णय के संबंध में मैच में किसी भी समय सहायक रेफरी से परामर्श कर सकता है। मैच के दौरान (नीचे देखें) मैच के लिए सहायक रेफरी का काम टीम के लिए इन्स को फेंकना और सभी निर्णय लेने की प्रक्रियाओं में रेफरी की सहायता करना जहाँ उपयुक्त हो।

5. यदि खेल को एक मैच में दोनों टीमों के स्तर के परिणामस्वरूप अतिरिक्त समय की आवश्यकता होती है, तो आवंटित 90 मिनट के बाद दो मिनट के 15 मिनट के रूप में 30 मिनट जोड़ दिए जाएंगे।

6. अगर अतिरिक्त समय के बाद भी टीम स्तर पर है तो पेनल्टी शूटआउट होना चाहिए।

7.लक्ष्य के रूप में गठित करने के लिए पूरी गेंद को लक्ष्य रेखा को पार करना चाहिए।

8.बेईमानी के लिए एक खिलाड़ी को या तो पीले या लाल कार्ड प्राप्त हो सकते हैं, जो बेईमानी की गंभीरता पर निर्भर करता है; यह रेफरी के विवेक पर खरा उतरता है। पीला एक चेतावनी है और एक लाल कार्ड उस खिलाड़ी की बर्खास्तगी है। दो पीले कार्ड एक लाल के बराबर होंगे। एक बार एक खिलाड़ी को भेज दिया जाता है तो उन्हें बदला नहीं जा सकता।

9. यदि कोई गेंद किसी साइड लाइन में किसी विरोधी के खेलने से बाहर जाती है तो उसे थ्रो के रूप में दिया जाता है। यदि वह बेस लाइन पर किसी हमलावर खिलाड़ी के खेलने से बाहर जाता है तो यह एक गोल किक है। अगर यह एक डिफेंडिंग खिलाड़ी की तरह आता है तो यह एक कॉर्नर किक है।


मेरे प्रिय खेल के निबंध हॉकी

खेलना कूदना हम बच्चों को बहुत  अच्छा लगता है खेल कूद का नाम सुनते ही हम बच्चों हर्ष और उल्लास से भर जाते है । खेल कूद के कई फायदे होते है यह दिमाग को तेज बनाता है और शरीर को दमदार बनाता है। खेल कूद सभी को अच्छा लगता है बच्चे अपना खेल खुद पसंद करते है बच्चों को अपना खेल चुनने का हक होता है जिसके उपरांत वो उस खेल को पसंद करते है । जैसे मुझे हॉकी पसन्द है । वैसे ही सारे बच्चो को उनकी पसंद का खेल अच्छा लगता होगा ।

यह खेल घर के बाहर खेले जाने वाला खेल है यह खेल कुछ देसो में खेले जाने वाला खेल है लेकिन जहा भी खेला जाता है वह के लोग इस खेल को बहुत पसंद करते है इस वजह से इनकी लोकप्रियता बढ़ती ही जा रही है  और आगे और ज्यादा बढ़ेगी । इस वजह से इसका प्रचार बहुत बढ़ गया है कुछ देशों में ।

यह खेल बड़े मैदान में खेले जाने वाला खेल है इसमें कुछ प्लेयर होते है और कुछ खास नियम होते है जो सभी लोग मानते है । हर खेल के कुछ अलग नियम होते है सब की कुछ न कुछ हदे होती है जिसका उलंघन करने पर आप को टीम से निकाल भी जा सकता है । हर खेल आप को आप के जीवन मे बेहतर बनाती है जिसकी वजह से आप सबसे बेहतर बनते है ।

खेल कभी भी जितने के लिए नही खेलना चाहिए बल्कि उसे कुछ सिख लेनी चाहिए । खेल में जीत हर मायने नही रखती है बल्कि आप खेल रहे है और उस खेल का आनंद ले रहे है ये बड़ी बात होती है हर जीत तो लगी रहती है लेकिन खेल कर मिलने वाली खुसी बहुत काम लोगो को प्राप्त होती है इस लिए इस लिए हर समय खेलने पर ध्यान दे ना कि हर जीत पर ।

होकी के मुख्य नियम हैं

1. ऑफ़साइड्स: जब हमलावर टीम के किसी भी सदस्य ने बचाव दल की नीली रेखा पर पक से पहले।

2. ऑफसाइड (या टू-लाइन) पास: जब कोई खिलाड़ी अपने बचाव क्षेत्र से पक को लाल केंद्र रेखा से परे टीम के साथी के पास भेजता है।

3.  जब एक खिलाड़ी केंद्र लाल रेखा के पार पक गोली मारता है और विरोधी लाल लक्ष्य रेखा को पार करता है। Icing को यह नहीं कहा जाता है कि खिलाड़ी की टीम पेनल्टी मार रही है या नहीं, खिलाड़ी का एक साथी जो पुक की शूटिंग कर रहा है, वह विरोधी टीम के किसी खिलाड़ी से पहले उसे छूता है, डिफेंडिंग गोलकीप सबसे पहले पक को छूता है या अगर क्रीक क्रीज से गुजरता है (नीले रंग का अर्धवृत्त) लाल रेखा के अपने रास्ते पर) गोल के "मुंह" पर पेंट करें।


मेरे प्रिय खेल के निबंध कबाड़ी

खेलना कूदना हम बच्चों को बहुत  अच्छा लगता है खेल कूद का नाम सुनते ही हम बच्चों हर्ष और उल्लास से भर जाते है । खेल कूद के कई फायदे होते है यह दिमाग को तेज बनाता है और शरीर को दमदार बनाता है। खेल कूद सभी को अच्छा लगता है बच्चे अपना खेल खुद पसंद करते है बच्चों को अपना खेल चुनने का हक होता है जिसके उपरांत वो उस खेल को पसंद करते है । जैसे मुझे कबाड़ी पसन्द है । वैसे ही सारे बच्चो को उनकी पसंद का खेल अच्छा लगता होगा ।

यह खेल घर के बाहर खेले जाने वाला खेल है यह खेल कुछ देसो में खेले जाने वाला खेल है लेकिन जहा भी खेला जाता है वह के लोग इस खेल को बहुत पसंद करते है इस वजह से इनकी लोकप्रियता बढ़ती ही जा रही है  और आगे और ज्यादा बढ़ेगी । इस वजह से इसका प्रचार बहुत बढ़ गया है कुछ देशों में ।

यह खेल बड़े मैदान में खेले जाने वाला खेल है इसमें कुछ प्लेयर होते है और कुछ खास नियम होते है जो सभी लोग मानते है । हर खेल के कुछ अलग नियम होते है सब की कुछ न कुछ हदे होती है जिसका उलंघन करने पर आप को टीम से निकाल भी जा सकता है । हर खेल आप को आप के जीवन मे बेहतर बनाती है जिसकी वजह से आप सबसे बेहतर बनते है ।

खेल कभी भी जितने के लिए नही खेलना चाहिए बल्कि उसे कुछ सिख लेनी चाहिए । खेल में जीत हर मायने नही रखती है बल्कि आप खेल रहे है और उस खेल का आनंद ले रहे है ये बड़ी बात होती है हर जीत तो लगी रहती है लेकिन खेल कर मिलने वाली खुसी बहुत काम लोगो को प्राप्त होती है इस लिए इस लिए हर समय खेलने पर ध्यान दे ना कि हर जीत पर ।

कबाड़ी के नियम 

1. दोनों टीम बीस मिनट के दो हिस्सों के लिए छापेमारी और बचाव के बीच वैकल्पिक रूप से काम करती हैं (प्रत्येक के बीच पांच मिनट का ब्रेक और हाल ही में टीमों के लिए छोटे टाइमआउट का परिचय देता है जो
विज्ञापन राजस्व उत्पन्न करने के लिए उपयोग किया जाता है)

2. हाफटाइम के बाद, दोनों टीमें कोर्ट के पक्ष बदल देती हैं।

3. खेल के अंत में सबसे अधिक अंक (40 मिनट के बाद) जीतने वाली टीम!
लॉबी अदालत का वह क्षेत्र है जिसे तभी सक्रिय माना जाता है जब रेडर और डिफेंडर के बीच संपर्क किया गया हो। एल्स, इसे रेडर और डिफेंडर दोनों के लिए सीमा से बाहर माना जाता है।


मेरे प्रिय खेल के निबंध बोल्ली बोल

खेलना कूदना हम बच्चों को बहुत  अच्छा लगता है खेल कूद का नाम सुनते ही हम बच्चों हर्ष और उल्लास से भर जाते है । खेल कूद के कई फायदे होते है यह दिमाग को तेज बनाता है और शरीर को दमदार बनाता है। खेल कूद सभी को अच्छा लगता है बच्चे अपना खेल खुद पसंद करते है बच्चों को अपना खेल चुनने का हक होता है जिसके उपरांत वो उस खेल को पसंद करते है । जैसे मुझे बोल्ली बोल पसन्द है । वैसे ही सारे बच्चो को उनकी पसंद का खेल अच्छा लगता होगा ।

यह खेल घर के बाहर खेले जाने वाला खेल है यह खेल कुछ देसो में खेले जाने वाला खेल है लेकिन जहा भी खेला जाता है वह के लोग इस खेल को बहुत पसंद करते है इस वजह से इनकी लोकप्रियता बढ़ती ही जा रही है  और आगे और ज्यादा बढ़ेगी । इस वजह से इसका प्रचार बहुत बढ़ गया है कुछ देशों में ।

यह खेल बड़े मैदान में खेले जाने वाला खेल है इसमें कुछ प्लेयर होते है और कुछ खास नियम होते है जो सभी लोग मानते है । हर खेल के कुछ अलग नियम होते है सब की कुछ न कुछ हदे होती है जिसका उलंघन करने पर आप को टीम से निकाल भी जा सकता है । हर खेल आप को आप के जीवन मे बेहतर बनाती है जिसकी वजह से आप सबसे बेहतर बनते है ।

खेल कभी भी जितने के लिए नही खेलना चाहिए बल्कि उसे कुछ सिख लेनी चाहिए । खेल में जीत हर मायने नही रखती है बल्कि आप खेल रहे है और उस खेल का आनंद ले रहे है ये बड़ी बात होती है हर जीत तो लगी रहती है लेकिन खेल कर मिलने वाली खुसी बहुत काम लोगो को प्राप्त होती है इस लिए इस लिए हर समय खेलने पर ध्यान दे ना कि हर जीत पर ।

बोल्ली बोल के नियम

1. किसी भी समय फर्श पर 6 खिलाड़ी - सामने की पंक्ति में 3 और पीछे की पंक्ति में 3

2. प्रति पक्ष में अधिकतम 3 हिट

3. रैली की रैली टीम (रैली-पॉइंट स्कोरिंग) के लिए हर सेवा पर अंक बनाए जाते हैं।

4. खिलाड़ी उत्तराधिकार में गेंद को दो बार नहीं मार सकता है। (एक ब्लॉक को हिट नहीं माना जाता है।)

5. गेंद वॉली के दौरान और सर्विस के दौरान नेट से खेली जा सकती है।

6. एक सीमा रेखा से टकराने वाली गेंद अंदर है।

7. एक गेंद बाहर होती है अगर यह एक एंटीना, हिट को पूरी तरह से अदालत के बाहर फर्श, किसी भी नेट या केबल के बाहर एंटीना, रेफरी स्टैंड या पोल, एक गैर-खेलने योग्य क्षेत्र के ऊपर छत से टकराता है।

8.किसी खिलाड़ी के शरीर के किसी भाग के साथ गेंद से संपर्क करना कानूनी है।

9. गेंद को पकड़ना, पकड़ना या फेंकना अवैध है।

10. एक खिलाड़ी 10-फुट की रेखा पर या उसके अंदर से एक सेवा को ब्लॉक या हमला नहीं कर सकता है।
सेवा के बाद, फ्रंट-लाइन खिलाड़ी नेट पर स्थिति बदल सकते हैं।


11. मैच सेट से बने होते हैं; संख्या खेल के स्तर पर निर्भर करती है। 3-सेट मैच 2 सेट से 25 अंक और तीसरा सेट 15. से प्रत्येक सेट दो अंकों से जीता जाना चाहिए। विजेता 2 सेट जीतने वाली पहली टीम है। 5-सेट मैच 25 अंक के लिए 4 सेट और 15. सेट 5 हैं। टीम को 2 से जीतना होगा जब तक कि टूर्नामेंट नियम तय न हो। विजेता तीन सेट जीतने वाली पहली टीम है।

मेरे प्रिय खेल के निबंध बास्केट बॉल

खेलना कूदना हम बच्चों को बहुत  अच्छा लगता है खेल कूद का नाम सुनते ही हम बच्चों हर्ष और उल्लास से भर जाते है । खेल कूद के कई फायदे होते है यह दिमाग को तेज बनाता है और शरीर को दमदार बनाता है। खेल कूद सभी को अच्छा लगता है बच्चे अपना खेल खुद पसंद करते है बच्चों को अपना खेल चुनने का हक होता है जिसके उपरांत वो उस खेल को पसंद करते है । जैसे मुझे बोल्ली बोल पसन्द है । वैसे ही सारे बच्चो को उनकी पसंद का खेल अच्छा लगता होगा ।

यह खेल घर के बाहर खेले जाने वाला खेल है यह खेल कुछ देसो में खेले जाने वाला खेल है लेकिन जहा भी खेला जाता है वह के लोग इस खेल को बहुत पसंद करते है इस वजह से इनकी लोकप्रियता बढ़ती ही जा रही है  और आगे और ज्यादा बढ़ेगी । इस वजह से इसका प्रचार बहुत बढ़ गया है कुछ देशों में ।

यह खेल बड़े मैदान में खेले जाने वाला खेल है इसमें कुछ प्लेयर होते है और कुछ खास नियम होते है जो सभी लोग मानते है । हर खेल के कुछ अलग नियम होते है सब की कुछ न कुछ हदे होती है जिसका उलंघन करने पर आप को टीम से निकाल भी जा सकता है । हर खेल आप को आप के जीवन मे बेहतर बनाती है जिसकी वजह से आप सबसे बेहतर बनते है ।

खेल कभी भी जितने के लिए नही खेलना चाहिए बल्कि उसे कुछ सिख लेनी चाहिए । खेल में जीत हर मायने नही रखती है बल्कि आप खेल रहे है और उस खेल का आनंद ले रहे है ये बड़ी बात होती है हर जीत तो लगी रहती है लेकिन खेल कर मिलने वाली खुसी बहुत काम लोगो को प्राप्त होती है इस लिए इस लिए हर समय खेलने पर ध्यान दे ना कि हर जीत पर ।

बास्केटबॉल के लिए नियम

बास्केटबॉल टीम बास्केटबॉल के साथ टीम है। जब एक खिलाड़ी के पास बास्केटबॉल होता है, तो कुछ नियमों का पालन करना चाहिए:

1) खिलाड़ी को दोनों पैरों को घुमाते हुए एक हाथ से गेंद को उछालना या ड्रिबल करना होगा। अगर, किसी भी समय, दोनों हाथ गेंद को छूते हैं या खिलाड़ी ड्रिबल करना बंद कर देता है, तो खिलाड़ी को केवल एक पैर हिलाना चाहिए। स्थिर होने वाले पैर को धुरी पैर कहा जाता है।

2) बास्केटबॉल खिलाड़ी ड्रिब्लिंग में केवल एक ही मोड़ ले सकता है। दूसरे शब्दों में, एक बार एक खिलाड़ी ने ड्रिबलिंग बंद कर दिया है तो वे एक और ड्रिबल शुरू नहीं कर सकते हैं। एक खिलाड़ी जो फिर से ड्रिबलिंग शुरू करता है उसे दोहरे ड्रिबलिंग उल्लंघन के लिए बुलाया जाता है और दूसरी टीम को बास्केटबॉल खो देता है। एक खिलाड़ी केवल एक टीम द्वारा किसी अन्य खिलाड़ी के स्पर्श करने या बास्केटबॉल पर नियंत्रण हासिल करने के बाद ही एक और ड्रिबल शुरू कर सकता है। यह आमतौर पर शॉट या पास के बाद होता है।

3) गेंद को सीमा में रहना चाहिए। यदि आक्रामक टीम गेंद को सीमा से बाहर कर देती है तो दूसरी टीम को बास्केटबॉल पर नियंत्रण मिल जाता है।

4) ड्रिबलिंग करते समय खिलाड़ियों का हाथ गेंद के ऊपर होना चाहिए। अगर वे ड्रिबल करते हुए बास्केटबॉल के निचले हिस्से को छूते हैं और ड्रिबल करना जारी रखते हैं तो इसे बॉल ले जाना कहा जाता है और खिलाड़ी दूसरी टीम को गेंद खो देगा।

5) एक बार जब आक्रामक टीम आधी अदालत को पार कर जाती है, तो वे बैककोर्ट में वापस नहीं जा सकते हैं। इसे बैककोर्ट उल्लंघन कहा जाता है। यदि रक्षात्मक टीम गेंद को बैककोर्ट में मारती है, तो आक्रामक टीम गेंद को कानूनी रूप से ठीक कर सकती है।

Comments

Popular posts from this blog

कैसे करें पढ़ाई

जादुई चिड़िया कहाँ है ( Jadui Chidiya )

Do you have 7 these lucky signs in your hand?